श्री रामचन्द्र जी की बहन का नाम - 

शांता 

रामचरितमानस के अनुसार भगवान राम लंका में 111 दिन रहे।

रामचरितमानस के अनुसार त्रिजटा के पिता विभीषण थे।

रामचरितमानस के अनुसार नल और नील विश्वकर्मा जी के पुत्र थे।

रावण एक अच्छा वीणा वादक भी था।

रामायण के दो ऐसे पात्र जिन्होंने रामचन्द्र जी से कुछ नही मांगा।

पहले थे भरत जी।

दूसरे थे केवट जी।

नासा के अनुसार रामायण और आदम का पुल एक दूसरे से जुड़े हुए हैं।

"बंदऊँ गुरु पद पदुम परागा। सुरुचि सुबास सरस अनुरागा।। अमिअ मूरिमय चूरन चारू। समन सकल भव रुज परिवारू॥"

रामचरितमानस की पहली चौपाई -

“जथा सुअंजन अंजि दृग साधक सिद्ध सुजान। कौतुक देखत सैल बन भूतल भूरि निधान॥”

रामचरितमानस का पहला दोहा -