नाम - मोनू मानेसर उर्फ मोहित यादव पहचान - हरियाणा के सबसे चर्चित गौरक्षक

मानेसर के रहने वाले मोनू एक साधारण परिवार से आते हैं। उसके पिता एक बस ड्राइवर थे।

मोनू मानेसर के पिता का देहांत हो चुका है। उनके परिवार की आय का सबसे बड़ा साधन किरायेदारी है।

उसके पास मानेसर और आसपास कई कमरे हैं। जिन्हें उन्होंने किराए पर दे रखा है।

मानेसर ऐसा शहर है, जहाँ प्रवासी मजदूर बड़ी संख्या में रहते हैं। उनका कारोबार भी इन्हीं मजदूरों के इर्द-गिर्द घूमता है।

मोनू मानेसर गौ-रक्षकों की बहुत बड़ी टीम की अगुवाई करता है।

वह स्वयं को बजरंग दल, गौरक्षा के प्रांत प्रमुख बताते हैं। गौरक्षा के नाम पर मोनू के तेवर कभी ढीले नहीं पड़े।

स्कूल की शिक्षा पूरी करने के बाद, मोनू ने पॉलिटेक्निक डिप्लोमा किया।

उसके बाद मोनू ने 2011 में बजरंग दल जॉइन किया। तब से अब तक मोनू पर कई धाराओं में मुकद्दमें दर्ज होते रहे।

पिछले 10 बर्षों में मोनू ने अनगिनत गायों को कसाइयों और गौतस्करों से छुड़ाया है। वहीं अनगिनत गौ तस्करों के छक्के छुड़ा दिए।