रामचरितमानस का पहला दोहा सही उत्तर

इस अंक में श्री रामचरितमानस का पहला दोहा प्रस्तुत है। मानस हमारी संस्कृति का एक महत्वपूर्ण ग्रंथ है। यदि आप सनातन संस्कृति को मानते हैं। तो आपने कभी न कभी मानस अवश्य पढ़ी होगी। मानस से जुड़े ऐसे अनेकों तथ्य हैं, जो हमें पता नहीं होते हैं। इस लेख में ऐसे ही एक तथ्य के … Read more

कट्टर हिन्दू श्लोक अर्थ सहित

हिंदुत्व का इतिहास बहुत गौरवशाली इतिहास रहा। ये विश्व की सबसे प्राचीनतम संस्कृति है। सनातन संस्कृति का इतिहास पराजय का नहीं पराक्रम का है। हिंदू संस्कृति कहती है, “वसुधैव कुटुम्बकम” अर्थात सम्पूर्ण विश्वास ही हमारा परिवार है। आदियोगी के इस अंक में कट्टर हिन्दू श्लोक हिंदी अर्थ सहित प्रस्तुत हैं। सनातन संस्कृति ही विश्व की … Read more

ईश्वर प्रेम पर दोहे, शायरी

आदियोगी के इस अंक में ईश्वर प्रेम पर दोहे, शायरी संकलित हैं। जैसे माँ अपने बच्चे को कभी दु:ख नहीं देती, परेशान नही करती, वैसे ही जो ईश्वर है। परमात्मा आपको परेशान नहीं करना चाहता। यदि तुम परेशान हो तो अपनी खोखली कल्पनाओं के कारण। इसमें ईश्वर का कोई दोष नहीं है। वो परमपिता है … Read more

पहला सुख निरोगी काया, जानें सात सुखों को

आदियोगी के इस अंक में पहला सुख निरोगी काया यानी कि सात सुखों का वर्णन किया गया है। सुख की चाह किसे नहीं है? पृथ्वी पर प्रत्येक जीव सुख चाहता है, लेकिन सुख की प्राप्ति कुछ ही जीवों को प्राप्त होती है। जो अत्यंत किस्मत वाले होते हैं। हमारे शास्त्रों में सात सुखों का वर्णन … Read more

आशावादी विचार, कविता, शायरी, प्रसंग

इस अंक में आशावादी विचार, कविता, प्रसंग एवं शायरी प्रस्तुत हैं। आप जब सुबह उठते हैं। आपके पास दो विकल्प होते हैं। सकारात्मक रहें या नकारात्मक..! आशावादी रहें या निराशावादी। निराशावादी होने से आशावादी होना कई गुना अच्छा होता है। यह एक द्रष्टिकोण की बात है । आशावादी होना सफलता की सीढ़ी का पहला चरण … Read more